You are here
Home > haryana lyrics > lakhmi chand ragni > kr jod khadi su parbhu Ragni Lyrics – Lakhmi Chand

kr jod khadi su parbhu Ragni Lyrics – Lakhmi Chand

Ho Piya Bhid M Padi Ragni Lyrics - Lakhmi Chand

kr jod khadi su parbhu Lyrics – Lakhmi Chand – More About Lakhmi Chand :- Born in 1901 in the house of Udmiram, an ordinary farmer of Jati village in Sonipat district. The family had to endure opposition to get into the field of art. With his singing skills, he popularized ragani not only in Haryana but also in the surrounding states. Composed more than twenty songs. Nautanki and royal woodcutter particularly famous. Deeply influenced the society and culture of Haryana. He died in 1945. The Haryana Sahitya Academy has published the Lakhmichand Bibliography.

Singer – Lakhmi Chand
Album –
Lyricist – Lakhmi Chand

kr jod khadi su parbhu Ragni Lyrics – Lakhmi Chand

कर जोड़ खड़ी सूं प्रभु लाज राखियो मेरी 

मर्यादा को भूल गए दरबारां मैं शोर होग्या 
दादा भीष्म द्रोणाचारी का हिरदा क्यूं कठोर होग्या 
दुर्योधन दुशासन शकुनी कौरवों का जोर होग्या 
अधर्मी राजा की प्रजा गैल दुख पाया करै 
पाप की कमाई पैसा काम नहीं आया करै 
सताए जां आप जो कोए ओरां नै सताया करै 
हे कृष्ण हे कृष्ण कहकै ऊंचे सुर तै टेरी 

सभी के मैं प्रश्न किया धीरे-धीरे फिरण लागी 
कांपता शरीर रोई कौरवों से डरण लागी 
भीष्म की तरफ कुछ इशारा सा करण लागी 
नीति को बिसारा पिता क्यूं बैठे चुपचाप कहो 
हारी सूं अक ना हारी सूं खोल कै नै साफ कहो 
ये भी काम आपका है तोल कै इंसाफ कहो 
मेरे प्रश्न का उत्तर दो थारी इतनी दया भतेरी 

धर्म के विषय की बात समझकै बताई जा सै 
धन की भरी थैली के अपणे हाथ से रिताई जा सै 
दूसरे की चीज के जूए मैं जिताई जा सै 
धर्मसुत बैठे जहां मैं के बेईमान हूंगी 
आदि शक्ति फैसले पै बोलती जबान हूंगी 
बीर का शरीर चीर मैं भी तो इंसान हूंगी 
ये कौरव चीर तारणा चाहवैं करकै हेरा फेरी 

लंका पै चढ़ाई करी सीता से मिलाए राम 
जरतकारु फेर मिले छोड़ गए घर गाम 
अनुसूईया अहिल्या तारा प्रेम से रटैं थी नाम 
दमयंती की टेर सुणी नल को मिलाया फेर 
देवयानी नै रट्या सखी कुए मैं गई थी गेर 
सावित्री की बिनती सुणी पल की ना लगाई देर 
कहै ‘लखमीचन्द’ भजन बिन यो तन माटी की ढेरी

More Lakhmi Chand Ragni Lyrics….

Leave a Reply

Top
%d bloggers like this: