जीजा साली शायरी

खत लिखती हूँ खून से स्याही ना समझना
आपकी सिर्फ साली हूँ ,लुगाई ना समझना 

मोहब्बत नाम हैं किसका, शुरू कहाँ से होती हैं,
इसे किया पैदा किसने और खत्म कहाँ पर होती हैं….

चाँद की चांदनी का वास्ता है तुझे,
इन हसीन नजारों का वास्ता है तुझे
प्यार का खत किसी को न देना,
इसका भी जीजा वासता है, तुझे.

🌹🌹🌹 Jija Sali Shayari 🌹🌹🌹

Best 100+ True Love Shayari

ऐ जीजा ! इलाज तेरे इस दर्द का,
मेरे तो क्या पास किसी के नहीं,
यूँ तो समाया है नस नस में,
दवा इसकी उस खुदा के पास भी नही…

Jiju: Tum Chinese jaisi kyu dikhti ho?
Saali: Mere dad Chinese the.
Jiju: Wo kaha hai?
Saali: Mar gaye.
Jija: Oh! Aakhir China ka maal tha, chalta bhi kitna

मोहब्बत नाम हैं गम का, शुरू आँखों से होती हैं,
किया पैदा इसे दिल ने, खत्म साँसों पर होती हैं…

खत पाकर दिल को सुकून हुआ,
तुम्हे प्यार करने पर मजबूर किया
तुमसे मिलने पर दिल धड़कता है,
दिल में प्यार का शोला भड़कता है.

गुलज़ार साहब शायरी यहां देखिये

तुम्हारी दीदी को हमने दूर किया,
तुम्हें प्यार करने पर मजबूर किया,
तुमसे मिलने पर दिल धड़कता है,
दिल में प्यार का शोला भड़कता है…